• भारत

मोदी सरकार द्वारा लिए गए नोट बंद के फैसले के पश्चात, एक तरफ देश में सरकार की चारों तरफ आलोचना हो रही है तो दूसरी तरफ सुप्रीम कोर्ट ने भी केंद्र सरकार को फटकार लगाई है।

खबरों के अनुसार सुप्रीम कोर्ट ने देश की जनता को नोट बंदी से हो रही परेशानी पर कहा कि सरकार इसका हल निकालने की बजाय हाथ पर हाथ रखकर बैठी है। सुप्रीम कोर्ट ने इस बात की भी पुष्टि की है कि नोट बंदी को लेकर दायर हो रही सभी याचिका भी स्वीकार की जाएगी।

आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट से पहले कोलकाता हाई कोर्ट ने भी केंद्र सरकार को इस फैसले के लिए फटकार लगाई थी। हाई कोर्ट ने सरकार से कहा है कि रोज रोज बदलाव अच्छे नहीं होते है। हाई कोर्ट के जज ने नोट बंद से हो रही परेशानी में अपने बीमार बेटे जिनका इलाज कराने में परेशानी हो रही का उदाहरण देकर इस फैसले की निंदा की थी।

हाई कोर्ट के जज ने आगे कहा कि लोगों को इस फैसले से काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इसका जवाब कौन देगा। कोर्ट ने सख्त टिप्पणी करते हुए सरकार से नोट बंदी पर जवाब माँगा है। कोर्ट ने साथ ही सरकार के इस फैसले को फटकार लगते हुए कहा कि सरकार रोज रोज अपने फैसले न बदले।