• भारत

लालू ने ट्वीट कर पूछा है कि पचास दिनों के बाद पीएम को किस चौराहे पर सजा दी जानी चाहिए। लालू ने ट्विटर पर लिखा है कि पीएम अपना पसंददीदा चौहारा खुद चुन लें, जहां जनता उनको कालेधन से लड़ने के लिए नोटबंदी जैसे जुमले के फेल होने पर सजा देगी।

दरअसल यूपी चुनावों से पहले एनडीए में सहयोगी शिवसेना ने बीजेपी पर करारा हमला बोला है।

शिवसेना ने बीजेपी को नसीहत देते हुए कहा है कि युपी चुनाव को लेकर मदमस्त हाथी ना बने बीजेपी। पार्टी के मुखपत्र सामना में शिवसेना ने कहा है कि यूपी में इतिहास गवाह है कि जब जब सत्ताधारी मस्ती में आए हैं तो उन्हें जनता ने सिंहासन से उतार फेंका है। यही वजह है कि कांग्रेस तीन दशकों से सत्ता से कोसों दूर है। शिवसेना ने बीजेपी पर हमले के लिए सपा और बीएसपी का उदाहरण देते हुए कहा कि समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी का हाथी भी जब-जब मस्ती में आया, जनता ने उन्हें भी बाहर का रास्ता दिखा दिया।

लेख में कहा गया है कि जहां तक भारतीय जनता पार्टी का सवाल है तो वह फिलहाल राज्य में सत्ता में नहीं है फिर भी मदमस्त हुए जा रही है। यह जानते हुए भी कि यूपी की जनता मदमस्त हाथी को माफ नहीं करती।

पीएम नरेंद्र मोदी ने 13 नवम्बर को गोवा में एक कार्यक्रम के दौरान कहा था कि 50 दिनों में स्थिति नहीं सुधरी तो उन्हें जो भी सजा दी जाएगी, वह उसे स्वीकार करेंगे। राजद नेता ने कहा कि अब उन्हें बताना चाहिए कि किस चौराहे पर उनको सजा दी जानी चाहिए?

लालू ने कहा, शिवसेना ठीक कह रही है। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों में समाजवादी पार्टी फिर विजयी होगी और भाजपा प्रदेश में कहीं नहीं दिखेगी। उल्लेखनीय है कि नोटबंदी के विरोध में राजद ने राज्य के सभी जिला मुख्यालयों में 28 दिसंबर को महाधरना देने की घोषणा की है।