• भारत
modi not welcome protest

बिहार चुनाव में मिली करारी हार से नरेन्द्र मोदी के ब्रिटेन दौरे को लेकर वहां प्रदर्शन आरम्भ हो गया है। ब्रिटेन दौरे से पहले विरोध को लेकर संगठन की तरफ से ब्रिटिश पार्लियामेंट के बाहर पोस्टर भी लगाए हैं। मोदी नॉट वेलकम नाम के इस कैंपन की अगुवाई आवाज नेटवर्क कर रहा हैं। ब्रिटेन के कई ह्युमन राइट समर्थक और एनजीओ पीएम मोदी के इस दौरे के विरोध प्रोटेस्ट करने की तैयारी में हैं।

मोदी का ब्रिटेन दौरा 12 नवंबर को है। यूरोप इंडिया फोरम के यूके वेलकम्स मोदी कैंपेन के तहत मोदी के स्वागत की तैयारियां शुरू हो गई हैं। लंदन के वेम्बले स्टेडियम में 13 नवंबर होने वाले कार्यक्रम के लिए 70,000 से ज्यादा लोगों के पहुंचने की आशा है। ब्रिटेन में भारत के राजदूत रंजन मथाई ने बताया कि करीब 10 साल में किसी भारतीय पीएम का यह पहला स्वागत होगा। मोदी के स्वागत समारोह को टू ग्रेट नेशंस, वन ग्लोरियस फ्यूचर नाम दिया गया है।
दूसरी ओर आवाज नेटवर्क ने पीएम मोदी के भव्य स्वागत के विरोध में 3 दिन का प्रोटेस्ट प्लान किया है। 12 नवंबर की दोपहर ब्रिटिश पीएमओ 10, डाउनिंग स्ट्रीट के बाहर से पार्लियामेंट स्क्वॉयर तक मार्च करने का फैसला किया है। इसके बाद प्रदर्शनकारी हाउस ऑफ कॉमन के बाहर इकट्ठा होंगे। प्रोटेस्ट करने वालों में शामिल एक सिख एनजीओ से संबंधित वॉलंटियर ओम सिंह ने बताया कि उन्होंने मोदी के पोस्टर पर स्वास्तिक (नाजी शासन का चिन्ह) लगाया है। इसके जरिए वे लोग मोदी के भव्य स्वागत का विरोध करेंगे।
आवाज नेटवर्क के स्पोक्सपर्सन ने कहा, मोदी यहां आकर अपने डिजिटल इंडिया, क्लीन इंडिया और विकसित और विकासशील भारत के आइडियाज को बेचना चाहते हैं। जबकि सच्चाई यह है कि वहां साहित्यकारों पर हिंसा की जा रही है। मोदी भारत की डेमोक्रेटिक और सेक्युलर छवि को अनदेखा कर रहे हैं।
पीएम मोदी के ब्रिटेन विजिट को लेकर सोशल मीडिया पर प्रोटेस्ट शुरू हो चुका है। सोशल साइट्स पर फोटोग्राफ्स और ट्वीट शेयर किए जा रहे हैं। इसके लिए#ModiNotWelcomeनाम से हैशटैग भी ट्रेंड में आ गया है। मोदी के दौरे के विरोध में किए जा रहे कुछ ट्वीट में गुजरात दंगे का जिक्र किए जाने के साथ ही दंगों के फोटोग्राफ्स भी शेयर किए जा रहे हैं।