• विदेश
Donald trump

अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि वह विदेशी कर्मियों को अमेरिकियों की जगह लेने की इजाजत नहीं देंगे और इससे अमरीकी प्रवासियों और विदेशी कर्मियों को अपने सिरों पर तलवार लटकती नजर आने लगी है।

ट्रंप ने डिज्नी वर्ल्ड एवं अन्य अमेरिकी कंपनियों के मामलों का जिक्र करते हुए गुरुवार को आयोवा में अपने हजारों समर्थकों से कहा, मैं हर अमेरिकी जीवन की रक्षा करने के लिए लड़ूंगा। उन्होंने दर्शकों की तालियों की गड़गड़ाहट के बीच कहा, चुनाव प्रचार मुहिम के दौरान मैंने उन अमेरिकी कर्मियों के साथ भी समय बिताया, जिन्हें नौकरी से निकाल दिया गया और उनकी जगह लेने वाले व्यक्ति को उन्हें प्रशिक्षण देने पर मजबूर किया गया। उनकी जगह विदेशी कर्मियों को लाया गया। हम अब और ऐसा नहीं होने देंगे।

डिज्नी वर्ल्ड और दो आउससोर्सिंग कंपनियों के खिलाफ मामला उनके दो पूर्व तकनीकी कर्मियों ने दर्ज कराया है। कंपनियों पर आरोप है कि उन्होंने अमेरिकी कर्मियों को नौकरी से निकालकर एच1बी वीजा पर खासकर भारत से अमेरिका लाए गए सस्ते विदेशी श्रमिकों को भर्ती करने के लिए षडयंत्र रचा। लियो पेरेरो और डेना मूरे डिज्नी के उन 250 तकनीकी कर्मियों में शामिल हैं जिन्हें जनवरी 2015 में ओरलैंडो में वाल्ट डिज्नी वर्ल्ड से नौकरी से निकाल दिया गया था। उन्होंने इस मामले में दो आईटी कंपनियों एचसीएल इंक एवं कॉग्निजेंट टेक्नोलॉजीज को भी आरोपी बनाया था। ट्रंप ने आव्रजन के मामले पर दोहराया कि वह मेक्सिको की सीमा पर दीवार का निर्माण कराएंगे।

गौरतलब है कि गैरकानूनी प्रवासियों को अमरीका से निकालना उनके चुनावी वादे में शामिल है जिसे जीत के बाद फिर दोहराया था जिसके कारण प्रवासियों में भी खौफ का माहोल है कि कौन इस चपेट में आजाए।