• विदेश
donald trump

अमरीका का कहना है कि राष्ट्रपति चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी की संवेदनशील जानकारी आधारित ईमेल हैक करने के पीछे रूस का हाथ है जिसका हमें 100 प्रतिशत यकीन है।

विदेश विभाग के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने सीएनएन से बात करते हुए कहा कि हमें सौ प्रतिशत विश्वास है कि अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के दौरान हिलेरी क्लिंटन की अति संवेदनशील ईमेल हैक करने के पीछे रूसी सरकार का हाथ है जिसके ठोस सबूत भी मौजूद हैं इसलिए इस पर अधिक प्रश्न उठाने की कोई गुंजाइश नहीं। उन्होंने कहा कि हैकिंग का मामला सिर्फ राष्ट्रपति ओबामा और विदेश मंत्री जॉन केरी के लिए ही नहीं बल्कि सभी खुफिया एजेंसियों का परीक्षण है हालांकि उन्होंने स्वीकार किया कि हैकिंग का मामला जिस तरह शुरू में उठाया जाना चाहिए था इस तरह नहीं उठाया गया।

दूसरी ओर अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता के बयान पर तुरंत ट्विट के माध्यम से प्रतिक्रिया में कहा कि अगर हैकिंग के पीछे रूस या कोई और शामिल था तो व्हाइट हाउस ने उस समय कार्रवाई क्यों नहीं की और हिलेरी क्लिंटन की हार के बाद उन्होंने केवल शिकायतों पर ही क्यों निर्भरता दिखाई। एक और ट्वीट में ट्रम्प का कहना था कि जब तक आप हैकर्स को पकड़ नहीं लेते तब तक यह निर्धारित करना कठिन है कि हैकिंग के पीछे कौन है लेकिन चुनाव से पहले सुरक्षा उपाय क्यों नहीं किए गए।