• यूरोप
Julian Assange

ब्रिटेन और स्वीडन की सरकारों द्वारा जारी विकिलीक्स के संस्थापक की अकारण गिरफ़्तारी के आदेश पर चिंता जताते संयुक्त राष्ट्र संघ ने इसे समाप्त करने की मांग की है।

रिपोर्ट के अनुसार, संयुक्त राष्ट्र संघ ने कहा है कि ब्रिटेन और स्वीडन की सरकारों को चाहिए कि विकिलीक्स के संस्थापक जूलियन आसांज की गिरफ़्तारी के आदेश को रद्द करें। और असांज के बारे में संयुक्त राष्ट्र संघ की नीतियों को बदलने का ब्रिटेन का प्रयास परिणामहीन है।

इससे पहले संयुक्त राष्ट्र संघ ने एक बयान जारी करके स्वीडन और ब्रिटेन से मांग की थी कि वह असांज के क़ानूनी और नागरिक अधिकारों का सम्मान करते हुए उनकी गिरफ़्तारी के बारे में जारी होने वाले आदेश को निरस्त करें।

गौरतलब है कि जूलियन असांज 2010 में यौन उत्पीड़न के आरोप में स्वीडन को वांछित हैं। दूसरी ओर असांज जासूसी और सरकारी  दस्तावेज़ को लीक करने के आरोप में अमरीकी न्यायालय को वांदित हैं। जबकि विकिलीक्स के संस्थापक जूनियन असांज ने 2012 से लंदन में एक्वाडोर के दूतावास की इमारत में शरण ले रखी है।