• यूरोप
putin

अमेरिकी विदेश विभाग के वॉशिंगटन स्थित रूसी दूतावास और सैन फ्रांसिस्को स्थित वाणिज्य दूतावास से 35 राजनयिकों को निर्वासित करने पर रूस का कहना है कि साइबर हमलों के आरोप में राजनयिकों को निर्वासित करने के कदम की अमेरिका को भारी कीमत चुकानी पडेगी।

विदेशी समाचार एजेंसी के अनुसार रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के प्रवक्ता दिमित्री पस्को ने कहा साइबर हमलों के आरोप में जो कदम अमेरिका ने उठाया और रूसी राजनयिकों को निर्वासित कर दिया यह कदम गैर कानूनी, अविश्वसनीय और अपमानजनक विदेश नीति का सबूत हैं इसके जवाब में अमेरिका को भारी कीमत चुकानी होगी और उसे बहुत तकलीफ भी होगी, उनका कहना था कि राष्ट्रपति पुतिन इन चरणों का जवाबी कार्रवाई करेंगे लेकिन रूस राष्ट्रपति ट्रम्प का पद संभालने तक इंतजार कर सकता है।

रूसी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता मारिया ज़खारोफ का कहना था कि अमेरिकी अधिकारियों रूसी हैकर्स के बारे में आने वाली खबरें सुन सुन कर हम पहले से ही निराश हो चुके हैं, ओबामा प्रशासन ने पिछले 6 महीने से गलत अफवाह अभियान शुरू कर रखा है जिसका लक्ष्य नवंबर में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में अपनी मनपसंद उम्मीदवार को जीत दिलाना था लेकिन वह अपने इस उद्देश्य में बुरी तरह असफल हो गए और अब वह इस विफलता का आरोप दूसरे देश पर लगाकर दोनों देशों के संबंधों को गंभीर नुकसान पहुंचा रहे हैं।

मारिया ज़खारोफ का कहना था कि रूसी राजनयिकों के निर्वासन और अन्य प्रतिबंधों को लागू करने के बावजूद भी बेहद कदम उठाने से पहले 20 जनवरी को ट्रम्प प्रशासन को देखा जाएगा।