• खेल

पाकिस्तान को आस्ट्रेलिया के खिलाफ तीन टेस्ट मैचों की श्रृंखला में 0-3 से हार का सामना करना पड़ा है। टीम के कप्तान मिस्बाह उल हक ने इस हार के लिए अपने गेंदबाजों को जिम्मेदार ठहराया है। सिडनी क्रिकेट ग्राउंड में खेले गए तीसरे टेस्ट मैच में शनिवार को आस्ट्रेलिया ने पाकिस्तान को 220 रनों से हराते हुए श्रृंखला में उसका सूपड़ा साफ कर दिया।

मैच के बाद मिस्बाह ने कहा कि टीम के गेंदबाजों ने इस पूरी श्रृंखला में खराब प्रदर्शन किया। आस्ट्रेलियाई टीम को तीन टेस्ट मैचों में पांच पारियां ही खेलनी पड़ीं। उसमें से भी चार में आस्ट्रेलिया ने अपनी पारी घोषित की और कुल 60 में सिर्फ 33 विकेट गंवाए। मिस्बाह ने कहा कि तीसरे टेस्ट मैच के अंतिम दिन टीम का धराशायी हो जाना इस दौर की सबसे बुरी बात है, लेकिन उनका मानना है कि गेंदबाजी ने उन्हें हराया है।

वेबसाइट ईएसपीएनक्रिकइंफो ने मिस्बाह के हवाले से लिखा है, "हमारी गेंदबाजी हमेशा से ही हमारी ताकत रही है, लेकिन इस श्रृंखला में निराशा की बात यह रही कि हम एक भी मैच में 20 विकेट नहीं ले सके। इसलिए हम हर टेस्ट में पिछड़ते चले गए।"

मिस्बाह ने कहा, "आस्ट्रेलिया की परिस्थिति में यह जरूरी है। आमतौर पर कहा जाता है कि यहां एशियाई बल्लेबाजों का रन बनाना मुश्किल होता है, लेकिन मैंने देखा है कि किसी भी एशियाई टीम के लिए यहां आना और 20 विकेट लेना मुश्किल होता है। यह एक कला है जो हमें नहीं आती है और इसी कारण हमें हार मिली।"

मिस्बाह का मानना है कि पाकिस्तान के खिलाड़ी जितना आस्ट्रेलिया में क्रिकेट खेलेंगे उतना ही उन्हें फायदा होगा और तभी वह आस्ट्रेलिया में लगातार हार से बच सकेगी। मिस्बाह ने कहा है कि पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) को अपने खिलाड़ियों को आस्ट्रेलिया के घरेलू टूर्नामेंट में खेलने भेजना चाहिए ताकि वे यहां के हालात से वाकिफ हो सकें।

मिस्बाह ने कहा, "मेरा मानना है कि हमारे लिए यह जरूरी है कि हमें यहां खेलने का अनुभव हो। अगर आप आस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका का दौरा कम करते हैं तो इसी तरह से परिणाम मिलेंगे। मैंने पहले ही कहा था कि हमारे कुछ खिलाड़ियों को यहां भेजा जाना चाहिए।"