• खेल
shriniwasan-anuragh

बीसीसीआई की 30 मे से 21 इकाइयो ने तो सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर लोढ़ा समिति की पुष्टि करते हुए लोढ़ा समिति मे पेश सभी सुधारो को लागू करने की बात कही। शनिवार को बेंगलूरू मे हुई अनौपचारिक बैठक मे भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के दो पूर्व अध्यक्ष एन. श्रीनिवासन और अनुराग ठाकुर ने हाथ मिलाया। 

बता दे कि बीसीसीआई की 30 मे से 24 इकाइयो मे ऐसे प्रशासक है जो क्वालीफाई नही कर पाए जिसके कारण उन्हे पद छोड़ना पड़ा या जरूरी ब्रेक पर जाने पर विवश हुए है। जो लोग क्वालीफाई नही कर पाए या अनिवार्य ब्रेक पर जाना पड़ा है उन्होने एक बैठक का आयोजन करके अपने भविष्य की चर्चा की। शनिवार को 21 राज्य इकाइयों ने पहले ही बीसीसीआई को लिख दिया है कि वे लोढ़ा समिति के सुधारवादी कदमों को लागू कर रहे हैं। इसलिए अगर 24 व्यक्ति जो अब अधिकृत नहीं हैं भारत में कहीं बैठक करते हैं तो किसी को उसके बारे में नहीं सोचना चाहिए।   

एक राज्य संघ के अधिकारी ने नाम जाहिर नहीं करने की शर्त पर बताया कि हां, यह अनौपचारिक बैठक थी। ठाकुर और श्रीनिवासन का रवैया एक-दूसरे के प्रति काफी सौहार्दपूर्ण था। बेशक मौजूदा स्थिति पर चर्चा की गई। श्रीनिवासन ने पूछा कि हम सब एकजुट हैं या नहीं। यहां तक कि ठाकुर भी समझते हैं कि उन्हें श्रीनिवासन अब अपने साथ चाहिए। 24 में से 18 अब भी श्रीनिवासन के समर्थक हैं।

ज्ञात हो कि सुप्रीम कोर्ट ने अनुराग ठाकुर को ही निलंबित नही किया है इससे पहले बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष एन श्रीनिवासन और पूर्व सचिव अजय शिर्के, संयुक्त सचिव अमिताभ चौधरी और कोषाध्यक्ष अनिरुद्ध चौधरी को भी एस. पी. निलंबित कर चुका है। इस होने वाली बैठक मे छः संघ सम्मिलित नही थे। कुछ संघों के अपने स्टेडियमों में मैच कराने की स्वीकृति नहीं देने की बात भी कही है।